Chalu News

  Trending
Next
Prev

Chalu News

Har Pal Ki Khabar

ब्रेकिंग न्यूज़

#RafaleDeal: CAG रिपोर्ट पर जेटली का विपक्ष पर पलटवार, कहा- सत्यमेव जयते

पुडुचेरी के सीएम नारायणसामी को मिला केजरीवाल का साथ, सड़क पर सोने को लेकर जताई चिंता

[ad_1]


संसद में Rafale Deal को लेकर नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (CAG) की रिपोर्ट पेश होने पर केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने कांग्रेस पर पलटवार किया है. बुधवार को राज्यसभा में CAG रिपोर्ट पेश होने पर जेटली ने विपक्ष के महागठबंधन को महाझूठबंधन करार देते हुए कहा कि इससे उनका पर्दाफाश हो गया है.

उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘सत्यमेव जयते- आखिरकार सच की जीत हुई. राफेल पर CAG रिपोर्ट से सच्चाई सामने आई.’

Satyameva Jayate” – the truth shall prevail. The CAG Report on Rafale reaffirms the dictum.
— Arun Jaitley (@arunjaitley) February 13, 2019

The lies of ‘Mahajhootbandhan’ stand exposed by the CAG Report.
— Arun Jaitley (@arunjaitley) February 13, 2019

उन्होंने अपने अन्य ट्वीट में तंज कसा, ‘ऐसा हो नहीं सकता कि सुप्रीम कोर्ट गलत है, CAG रिपोर्ट गलत है और केवल वंशवाद (नेहरू-गांधी परिवार) सही है. जेटली ने 2007 में UPA सरकार की तुलना में 2016 में NDA सरकार के दौरान किए राफेल सौदे को बेहतर बताया. उन्होंने कहा कि यह सौदा कम कीमत, जल्द डिलिवरी, बेहतर रख-रखाव और महंगाई के आधार पर कम वृद्धि वाली है.

It cannot be that the Supreme Court is wrong, the CAG is wrong and only the dynast is right.
— Arun Jaitley (@arunjaitley) February 13, 2019

2016 vs. 2007 terms – Lower price, faster delivery, better maintenance, lower escalation.
— Arun Jaitley (@arunjaitley) February 13, 2019

अरूण जेटली ने यह भी कहा कि लोकतंत्र उन लोगों (कांग्रेस) को कैसे दंडित करे, जो देश से लगातार झूठ बोलते हों.

How does democracy punish those who consistently lied to the nation?
— Arun Jaitley (@arunjaitley) February 13, 2019

दरअसल CAG ने बुधवार को राफेल सौदे पर अपनी रिपोर्ट राज्यसभा में पेश की थी. रिपोर्ट में यह सौदा UPA के कार्यकाल की तुलना में प्रस्तावित सौदे से 2.8 प्रतिशत कम कीमत पर होने की बात कही गई है.

बता दें कि कांग्रेस और अन्य विपक्षी दल फ्रांस के साथ हुए राफेल सौदे में कथित घोटाले का आरोप लगाते हुए इसकी जॉइंट पार्लियामेंट्री कमेटी (JPC) से जांच कराने की लगातार मांग उठाते रहे हैं.

[ad_2]

Source link

Print Friendly, PDF & Email

शेयर करे

Related Posts